Masik Shivratri : इस दिन भगवान शिव को चढ़ाए इन चीजों का भोग, भोलेनाथ प्रसन्न होकर देते है आशीर्वाद

ख़बर शेयर करें 👉

हिन्दू धर्म में आए दिन कोई न कोई तीज त्यौहार आता रहता है, जिनका अपना अपना महत्व और कारण होता है। इसी तरह हर महीने में अमावस्या के बाद आने वाली चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है।

जो इस बार 16 जून को मनाई जाएगी। इस दिन लोग व्रत करते है भगवान शिव की पूजा अर्चना करते है और उन्हें तरह तरह की भोग लगाते है। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि मासिक शिवरात्रि पर आप किन चीजों का भोग भगवान शिव को लगा सकते है ताकि उनकी कृपा आप पर बनी रहे है।

यह भी पढ़ें 👉  12 जून का राशिफल: जानिए, क्या कहते हैं आज आपके भाग्य के सितारे,….पढ़ें आज का दैनिक राशिफल

मासिक शिवरात्रि पर भोलेनाथ को चढ़ाए इन पांच चीजों का
जब मासिक शिवरात्रि के दौरान भोग की बात आती है, तो हम आपको बताते हैं, कुछ ऐसी चीजें जिन्हें आमतौर पर भगवान शिव को भोग के रूप में चढ़ाया जाता है और इससे भोले नाथ बहुत जल्दी खुश हो जाते हैं।

दूध – भगवान शिव को अक्सर दूध के सेवन से जोड़ा जाता है, और मासिक शिवरात्रि के दौरान दूध को भोग के रूप में चढ़ाना शुभ माना जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  12 जून का राशिफल: जानिए, क्या कहते हैं आज आपके भाग्य के सितारे,….पढ़ें आज का दैनिक राशिफल

फल – ताजे फल, विशेष रूप से केले, आमतौर पर भगवान शिव को भोग के रूप में चढ़ाए जाते हैं. अन्य फल जैसे अनार, नारियल और आम भी शुभ माने जाते हैं।

बेल के पत्ते – शिव पूजा में बेल के पत्तों का बहुत महत्व है, उन्हें भोग के रूप में भगवान शिव को अर्पित किया जाता है और ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से भोले बाबा प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते हैं।

शहद – शहद को हिंदू रीति-रिवाजों में एक पवित्र प्रसाद माना जाता है, और इसे मासिक शिवरात्रि के दौरान भोग के रूप में चढ़ाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  12 जून का राशिफल: जानिए, क्या कहते हैं आज आपके भाग्य के सितारे,….पढ़ें आज का दैनिक राशिफल

भांग – मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव को भांग या भांग से बने व्यंजन भोग के रूप में चढ़ाए जाते हैं, हालांकि, यह ध्यान रखना जरूरी है। कि भांग का इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में ना हो।

इन चीजों के अलावा, भक्त मासिक शिवरात्रि के दौरान भोग के रूप में मिठाई, सूखे मेवे, नारियल पानी, पवित्र राख चढ़ा सकते हैं। बस याद रखें कि मासिक शिवरात्रि के लिए भोग तैयार करते समय हमेशा अपनी शुद्धता और रीति-रिवाजों का पालन करें।