हल्द्वानी: एमबीपीजी में दो गुटों के बीच जमकर हुई मारपीट, एक छात्र का फूटा सिर

ख़बर शेयर करें 👉

हल्द्वानी। एमबीपीजी कॉलेज में शनिवार को फ्रेशर पार्टी के दौरान दो छात्रगुट आपस में भिड़ गए। पुलिस की मौजूदगी में अध्यक्ष पद के दावेदारों के समर्थकों के बीच जमकर लात-घूसे चले। करीब ढाई घंटे तक महाविद्यालय परिसर और नैनीताल रोड पर अराजकता और अफरातफरी का माहौल रहा।
काबू करने के लिए पुलिस ने लाठियां बरसाकर उपद्रवियों को कॉलेज से बाहर खदेड़ा। मारपीट के दौरान एबीवीपी कार्यकर्ता हर्षित पंचवाड़ी के सर पर गंभीर चोट आई है। उसने कोतवाली में हमलावरों के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस फिलहाल मामले की जांच कर रही है।

एमबीपीजी महाविद्यालय में फ्रेशर पार्टी के दौरान एबीवीपी और निर्दलीय छात्रनेता के समर्थकों के बीच पंफलेट उछालने को लेकर गहमागहमी हो गई। छात्रनेता संजय जोशी के समर्थकों ने उसके समर्थन में नारेबाजी शुरू कर दी। एबीवीपी के सूरज रमौला के समर्थक इसका विरोध करते हुए भिड़ गए और देखते ही देखते दोनो पक्षों के बीच लात-घूसे चलने लगे। घटना की सूचना पर पुलिस ने डंडे फटकार कर माहौल काबू किया। इसके बाद सभी छात्र तितर-बितर हो गए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: लोक सेवा आयोग ने इस परीक्षा की तारीख में किया बदलाव, देखें….

कुछ देर बाद संजय जोशी के समर्थक और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बीच गेट पर झड़प शुरू हो गई। देखते ही देखते दोनों गुटों में भिड़ंत हो गई। छात्रों ने कुर्सी और डंडे से एक दूसरे पर हमला कर दिया। इस दौरान एबीवीपी के छात्र हर्षित के सर पर लोहे के कड़े के वार से चोट आ गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां बुजुर्ग महिला की दिनदहाड़े हुए हत्या का पुलिस ने 48 घंटों में खोला रहस्य

एबीवीपी कार्यकर्ता उसे प्राथमिक इलाज के लिए बेस अस्पताल ले गए। पुलिस ने उपद्रवियों को लाठियां मारकर कॉलेज से बाहर खदेड़ा और मामले को शांत किया। घायल एबीवीपी छात्र हर्षित ने हमलावर छात्रों के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी है।

इधर मामला शांत होने के कुछ देर बाद पूर्व छात्रनेताओं के दल ने प्राचार्य कक्ष में जमकर हंगामा काटा। प्राचार्य से ऐसे कार्यक्रमों में छात्रों की गुंडई को रोकने और कार्रवाई की मांग की।
एसपी सिटी हरबंश सिंह का कहना है कि कॉलेज में छात्रों के गुट आमने सामने आ गए थे। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराया। एक छात्र ने दो नामजद और अज्ञात के खिलाफ मारपीट और जानलेवा हमले को लेकर तहरीर दी है। इस मामले में जांच की जा रही है।
फ्रेशर पार्टी के दौरान हुई घटना के बाद कॉलेज प्रशासन ने फैसला लिया है कि छात्रसंघ चुनाव संपन्न होने तक कॉलेज परिसर में छात्रों को किसी भी कार्यक्रम की अनुमति नही दी जाएगी। कॉलेज में मारपीट और गुंडागर्दी करने वाले छात्रों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।