उत्तराखंड: गहरी खाई में गिरी ऑल्टो कार, पुलिस कर्मी की दर्दनाक मौत

ख़बर शेयर करें 👉

अल्मोड़ा। भतरौजखान थाने में कार्यरत एक पुलिस कर्मी की आल्टो कार गहरी खाई में गिर गई। हादसे में कार में सवार पुलिस कर्मी की दर्दनाक मौत हो गई। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर उसे परिजनों को सौंप दिया है। घटना बुधवार देर रात की है।

जानकारी के मुताबिक, थाना भतरौजखान में तैनात सिपाही देवेंद्र सिंह भंडारी (44) थाने से भौनखाल चौकी में ड्यूटी के लिए जा रहे थे। रात करीब 10.45 बजे देवरापानी के पास उनकी ऑल्टो कार अनियंत्रित होकर सड़क से करीब 100 मीटर नीचे खाई में गिर गई। एक ग्रामीण ने सड़क हादसे की जानकारी भतरौजखान पुलिस को दी। भतरौजखान थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। घायल सिपाही को सीएचसी भतरौंजखान ले जाया गया, लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही घायल पुलिसकर्मी की मौत हो गई। चिकित्सकों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने घटना की सूचना मृतक के परिजनों को दी। सूचना के बाद परिजन रानीखेत पहुंचे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: पंतनगर एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की धमकी, मचा हड़कंप, बढ़ाई गई सुरक्षा

गुरुवार को राजकीय अस्पताल रानीखेत में पुलिस जवान के शव का पोस्टमार्टम किया गया। देवेंद्र सिंह भंडारी मूल रूप से ग्राम रैस चोपता जिला चमोली के रहने वाले थे। हाल में उनका परिवार मुरादाबाद में रहता है। उनके दो बच्चे हैं। बेटी चौथी कक्षा की छात्रा है। जबकि बेटा 10वीं का छात्र हैं।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआं: कोतवाली पुलिस ने लंबे समय से फरार चल रहे वारंटी को किया गिरफ्तार

उनकी पत्नी बच्चों के साथ काशीपुर में रहती है। एसओ भतरौजखान मदन मोहन जोशी ने बताया कि हाल ही में भतरौजखान क्षेत्र में हुई गोकशी की घटना के बाद से सिपाही देवेंद्र को थाने में तैनात किया गया था। जबकि इससे पहले वह भौनखाल चौकी में सेवा दे रहे थे। बुधवार की रात वह थाने से चौकी में ड्यूटी के लिए जा रहे थे।

इसी दौरान थाने से करीब 2 किमी की दूरी पर उनका वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गया। सिपाही के निधन की सूचना के बाद पुलिस विभाग में शोक की लहर दौड़ गयी। पोस्टमार्टम की कार्यवाही के बाद जवान के पार्थिव शरीर को रानीखेत कोतवाली लाया गया। जहां एसएसपी देवेंद्र पींचा, सीओ विमल प्रसाद, एसएचओ रानीखेत अशोक कुमार धनकड़, एसओ भतरौजखान मदन मोहन जोशी सहित अन्य पुलिस बल ने दिवंगत जवान के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर नम आखों से श्रद्धाजंलि दी। साथ ही उनके परिवारजनों को दुख की इस घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की गई।