उत्तराखंड: यहां बुजुर्ग महिला की दिनदहाड़े हुए हत्या का पुलिस ने 48 घंटों में खोला रहस्य

ख़बर शेयर करें 👉

हरिद्वार के ज्वालापुर में हुए बुजुर्ग महिला सनसनीखेज हत्याकांड का रहस्य 48 घंटों के अंदर ही सुलझा लिया। मामले में पुलिस ने पोती और एक युवक को गिरफ्तार किया है। सीसीटीवी फुटेज के जरिए पुलिस आरोपी युवक तक पहुंची और उसे गिरफ्तार किया। जब पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की गई तो कई ऐसे खुलासे हुए, जिसे सुन पुलिस भी हैरान रह गई है। इस हत्याकांड में महिला की पोती का भी हाथ था।

मालूम हो कि 14 मई यानी गंगा सप्तमी के दिन ज्वालापुर के चाकलान मोहल्ले में दिनदहाड़े एक बुजुर्ग महिला की हत्या कर दी गई थी। जिसका खुलासा अब हरिद्वार पुलिस ने कर दिया है। हरिद्वार एसएसपी प्रमेंद्र डोभाल ने बताया कि बुजुर्ग महिला की हत्या के खुलासे के लिए 10 पुलिस टीमों का गठन किया गया था। प्रारंभिक पूछताछ में पता चला था कि पेशे से तीर्थ पुरोहित गंगा सप्तमी के अवसर पर अपनी पत्नी/परिजनों के साथ पूजा अर्चना के लिए हरकी पैड़ी गया हुआ था। जबकि, उनकी बुजुर्ग मां घर पर अकेली थीं। दोपहर के समय चीख-पुकार सुनकर पड़ोसी मौके पर पहुंचे तो बुजुर्ग महिला लहूलुहान हालत में फर्श पर पड़ी मिली।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: यहां पिकअप की चपेट में आने से मासूम की दर्दनाक मौत, मौके से चालक फरार

इसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और जांच पड़ताल शुरू की। इस पुलिस की टीम ने घटनास्थल की ओर आने-जाने वाले रास्तों पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले। कई संदिग्धों से भी पुलिस ने पूछताछ की, लेकिन एक युवक गतिविधि ज्यादा संदिग्ध नजर आई। ऐसे में उस युवक से सख्ती के साथ पूछताछ करने पर उसने हत्या की बात कबूली और पूरे घटनाक्रम के साथ ही हत्या की वजह समेत इसमें शामिल सभी किरदारों से पर्दा उठाया। आरोपी युवक बीबीए छात्र का निकला, जिसका नाम उदित झा है। जिसे बुजुर्ग महिला की पोती ने मोहरा बनाया था। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि बुजुर्ग महिला की पोती का अनुराग नाम के एक युवक (ब्वॉयफ्रेंड) के साथ अफेयर है। जबकि, उसका (उदित) का कनखल निवासी एक युवती (गर्लफ्रेंड) के साथ अफेयर में है। ऐसे में चारों आपस में भी दोस्त हैं। जबकि, आरोपी उदित और उसकी सहेली की प्राइवेट फोटो व वीडियो मृतका की पोती के पास थी। बुजुर्ग महिला की पोती अपने बॉयफ्रेंड अनुराग को समय-समय पर काफी पैसे देती रहती थी। उसको आईफोन के लिए भी पैसे दिए थे। अनुराग 10 से 15 हजार रुपए के बीच की नौकरी करता था, लेकिन