नैनीताल: सगा भाई ही निकला नाबालिग बहन का हत्यारा, इस बात को लेकर था नाराज

ख़बर शेयर करें 👉

नैनीताल। जिले के खनस्यू थाना क्षेत्र में हुई किशोरी की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया. पुलिस ने बताया कि एक युवक के साथ प्रेम संबंधों की भनक लगने पर भाई ने ही अपनी सगी बहन की हत्या की थी। पुलिस ने हत्या की घटना में शामिल आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

दरअसल मंगलवार को इस बहुचर्चित हत्याकांड का खुलासा करते हुए एसएसपी प्रह्लाद नारायण सिंह ने बताया कि पिछले माह 22 सितंबर को ग्राम कोटली निवासी धर्म सिंह के पुत्र शेर सिंह ने खनस्यूं थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी बेटी 17 सितंबर को घर से मिट्टी लेने के लिए पास के जंगल में गई थी और तब से वह घर नहीं लौटी।
इसी बीच 26 सितंबर को लापता गीता का शव ग्राम कोटली के बांज के जंगल में मिला। इस सूचना पर एसएसपी नैनीताल, थाना प्रभारी खनस्यूं और फॉरेंसिक टीम पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। जांच के दौरान लापता व्यक्ति का शव संदिग्ध हालत में मिलने और शिकायतकर्ता के बयानों के आधार पर हत्या का मामला भी दर्ज किया गया।
जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि लापता नाबालिग लड़की का उसी गांव के रहने वाले 35 वर्षीय युवक त्रिलोक सिंह कोटलिया पुत्र चंदन सिंह के साथ संबंध था। त्रिलोक की पत्नी ने उन्हें साथ बैठे देख लिया था। इसके बाद त्रिलोक की पत्नी, मृतक और मृतक की मां के बीच बहस भी हुई थी।

यह भी पढ़ें 👉  बिंदुखत्ता निवासी HM के छात्र की अमृतपुर में नहाने के दौरान डूबने से हुई मौत, परिजनों में मचा कोहराम

इस घटना से गीता का छोटा 16 वर्षीय नाबालिग भाई बहुत गुस्से में आ गया। जब गीता घर नहीं आई तो उसे ढूंढते हुए उसने अपनी बहन की दुपट्टे से गला दबाकर हत्या कर दी और शव को पहाड़ की पगडंडी के किनारे छिपा दिया। वहीं अगले दिन आरोपी के छोटे भाई ने त्रिलोक सिंह पर दबाव डाला कि अगर उसने अपनी बहन के शव को घटनास्थल से कहीं और छिपाने में सहयोग नहीं किया तो वह अपनी बहन की हत्या की साजिश में त्रिलोक को भी फंसा देगा। इसके बाद दोनों ने मिलकर शव को घटनास्थल के पास बांज के पेड़ों के पास छिपा दिया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: गौला-नंधौर नदी में खनन को लेकर आया नया आदेश, देखें……

इस मामले में पुलिस ने मृतक के छोटे नाबालिग भाई और शव को छिपाने में मदद करने वाले सह-आरोपी त्रिलोक सिंह को हिरासत में लिया, जबकि मुख्य आरोपी उसके पिता-संरक्षक शेर सिंह पर जेजे एक्ट के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया।