नैनीताल: कैंची धाम में होने वाले मेले को लेकर डीएम वंदना सिंह ने की महत्वपूर्ण बैठक, दिए ये निर्देश….

ख़बर शेयर करें 👉

नैनीताल। जिलाधिकारी वंदना सिंह ने आगामी दिनांक 15 जून 2024 को होने वाले मेले का सफलतापूर्वक सम्पादन हेतु, ट्रैफिक प्लान के साथ साथ भवाली के आस पास अस्थाई पार्किंग का निरीक्षण और कैंची धाम मंदिर परिसर में मंदिर समिति पदाधिकारियों, अधिकारियों के साथ बैठक की।

जिलाधिकारी वंदना सिंह ने नैनी बैंड से सेनिटोरियम बाई पास के निरीक्षण के दौरान बाईपास सड़क को कैंची मेले के लिए सड़क को सही करने और साफ सफाई के निर्देश दिए। कहा कि अस्थाई पार्किंग के रूप में प्रयोग करने के साथ साथ मेले के दिन जाम की स्थिति होने पर बाईपास मार्ग से छोटे वाहनों की आवाजाही भी की जा सकती है। उन्होंने मस्जिद के पास बन रही अस्थाई पार्किंग को जल्द तैयार करने के लिए एस डी एम हल्द्वानी परितोष वर्मा को नोडल अधिकारी नामित किया। इस दौरान उन्होंने भवाली में परिवहन निगम की पार्किंग का भी निरीक्षण किया। साथ ही उन्होंने सभी पार्किंग स्थलों साइन बोर्ड, लाइट्स आदि लगाने के निर्देश दिए। जिससे पर्यटकों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

यह भी पढ़ें 👉  16 जून का राशिफल: जानिए, क्या कहते हैं आज आपके भाग्य के सितारे,….पढ़ें आज का दैनिक राशिफल

कैंची धाम मंदिर परिसर में बैठक के दौरान श्री कैंची हनुमान मंदिर /आश्रम ट्रस्ट के सचिव आलोक चोपड़ा और प्रबंधक प्रदीप साह ने बताया शिप्रा नदी में भक्त नहाने, कपड़े धोने आदि का कार्य रहे हैं, साथ नदी किनारे वन विभाग की भूमि में भी लोग अतिक्रमण या आवाजाही कर रहे हैं। जिससे आम जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिस पर जिलाधिकारी ने नदी में जाने में पूरी तरह से रोक और चालान करने के निर्देश और वन विभाग भूमि के पास ताड़बाड़ करने के निर्देश दिए।
दीर्घकालीन योजना के तहत उक्त स्थल को अमृत सरोवर के रूप में विकसित करने हेतु भी निर्देशित किया ।
उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को सुचारु रूप से विद्युत और जल संस्थान के अधिकारियों को मेले से एक दिन पूर्व पेयजल व्यवस्था के लिए टैंकर,नगर पालिका को मोबाइल बाथरूम आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने एन एच के अधिकारियों को सड़कों के किनारे पिरुल हटाने और नगर पालिका और जिला पंचायत के अधिकारियों को 1 जून से 20 जून तक मंदिर, सड़क और शिप्रा नदी में विशेष सफाई अभियान चलाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां दर्दनाक सड़क हादसा, अलकनंदा में गिरा टेम्पो ट्रैवलर, दस लोगों की मौत

बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि मेले के दिन भवाली इंटर कॉलेज और जल संस्थान में दो पहिया वाहनों की पार्किंग की जाएगी। चौराहे के पास वाली पार्किंग , रानीखेत रोड, पेट्रोल पंप, खेल मैदान, मस्जिद के पास, परिवहन निगम की पार्किंग और सेनिटोरियम के दोनों बाईपास मार्ग को पार्किंग के लिए प्रयोग किया जाएगा।

15 जून के मेले को शांतिपूर्ण और अन्य बेहतर व्यवस्थाओं के जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारी नामित किए हैं। जिसमें एस डी एम हल्द्वानी परितोष वर्मा को शटल सेवा, कोश्याकुटोली एस डी एम विपिन पंत को पार्किंग और मार्ग पर अन्य व्यवस्थाएं और एस डी एम तुषार सैनी को मंदिर परिसर में विभागीय समन्वय से बिजली पानी, चिकित्सा आदि व्यवस्थाएं, जबकि आर टी ओ नंद किशोर को परिवहन और शटल सेवा का नोडल बनाया है। उन्होंने सभी नोडल अधिकारियों को 1 और 2 जून को मेले से पूर्व तैयारियों की रिहर्सल करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां दर्दनाक सड़क हादसा, अलकनंदा में गिरा टेम्पो ट्रैवलर, दस लोगों की मौत

जिलाधिकारी ने कैंची की पार्किंग से मंदिर गेट तक अस्थाई पैदल मार्ग/ फुटपाथ बनाने के निर्देश दिए। जिससे पैदल चलने में भी भक्तों को आवाजाही में परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। साथ ही यातायात भी सुचारू रहे ।
इस दौरान एसएसपी पीएन मीणा, निवर्तमान पालिका अध्यक्ष संजय वर्मा, अधिवक्ता प्रशांत जोशी समेत सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।