हल्द्वानी के बहुचर्चित अंकित हत्याकांड का आईजी निलेश आनंद भरणे व एसएसपी पंकज भट्ट ने सयुक्त रूप से किया खुलासा

ख़बर शेयर करें 👉

हल्द्वानी। नैनीताल जनपद के हल्द्वानी के बहुचर्चित अंकित हत्याकांड के मामले में आईजी निलेश आनंद भरणे और एसएसपी पंकज भट्ट ने सयुक्त रूप से खुलासा किया है। इस खुलासे के अनुसार, कारोबारी अंकित चौहान की हत्या माही ने नाग से कटवाकर की थी। हत्याकांड के बाद वह पीलीभीत अपनी नौकरानी के घर पहुंची थी। जहां से उसे नेपाल भागने की ख़बर पुलिस को मिली थी। पीलीभीत के बाद वह दिल्ली बस से गए थे। अब माही और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस पूछताछ में माही ने बताया कि वह बरेली से दिल्ली भागे थे। जहां वह कई महंगे होटलों में रुके। इसके बाद वहां से कोर्ट में सरेंडर होने के लिए हल्द्वानी आ रहे थे तभी पुलिस ने उन्हें रुद्रपुर के पास गिरफ्तार कर लिया।


बताया की उन्होंने अंकित को बीयर पीने के लिए बुलाया था जिसके बाद अंकित घर पहुंचा तो वह भीगा था। बारिश में भीगने से वह माही के बेड पर कंबल ओढ़कर लेट गया। तभी चारों ने उसे दबा दिया और सपेरे ने सांप से उसकी जींस ऊपर कर कटवा दिया। इसके बाद अंकित तड़पता रहा। इस बीच उसे दूसरी बार फिर कटवाया जिसके बाद अंकित की मौत हो गई। इसके बाद राम अवतार और दीप कांडपाल गाड़ी लेकर लाश को ठिकाने लगाने के लिए जगह खोजने गए। इसके बाद अंकित की लाश को कार में डालकर भुजियाघाट की ओर ले गए। वहां मौका न मिलने से वह वापस लौट आए और तीनपानी बाइपास के कार में छोड़कर चले गए। फिलहाल अंकित हत्याकांड में नौकर और नौकरानी फरार चल रहे है।
खुलासे में सामने आया की दीप कांडपाल से वह पिछले 8 साल से प्रेम करती थी जबकि अंकित 6 साले से उसके साथ था। यहां साफ हो गया कि दीप और माही पहले से ही रिलेशन में थे।

घटना का संक्षिप्त विवरण–
दिनांक 15-07-2023 को तीनपानी बाइपास रोड़ पर एक कार के अन्दर संदिग्ध अवस्था में एक व्यक्ति के होने की सूचना प्राप्त होने पर पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर जांच प्रारंभ की गयी तो उक्त स्थान पर वाहन स0- यू0के 04 क्यू-1574 नीले रंग की पोलो कार जिसका ईंजन व ए0सी0 स्टार्ट दशा में था जिसकी पिछली सीट पर एक व्यक्ति अचेत अवस्था में पड़ा था जिसकी शिनाख्त अंकित चौहान पुत्र धर्मपाल चौहान निवासी म0न0 बी -11 रामबाग कालोनी रामपुर रोड़ हल्द्वानी के रुप में हुई ,जिसे अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित कर दिया गया उक्त हत्या के सम्बन्ध में कोतवाली हल्द्वानी में दिनांक 17-07-2023 को वादिनी मृतक की बहन ईशा चौहान की तहरीर के आधार पर मु0अ0सं0-369/2023 धारा -302 भादवि0 पंजीकृत किया गया था मृतक अंकित की पोस्टमार्टम पंचायतनामा के पश्चात पुसिल कार्यवाही में बारीकी से निरीक्षण करने पर पाया गया कि उसके दोनों पैरों के पिछले हिस्से में दो बार सांप के काटने के सर्पदंश के निशान थे पोस्टमार्टम में डॉक्टर द्वारा भी सर्पदंश की पुष्टि गयी जिससे अंकित की मृत्यु का कारण संदेहास्पद प्रतीत होने पर श्री पंकज भट्ट एस0एस0पी0 नैनीताल द्वारा तत्काल अधीनस्थों के साथ मीटिंग कर घटना के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा करते हुए एवं पोस्टमार्टमकर्ता चिकित्सकों से मृत्यु के कारणों के सम्बन्ध में जानकारी करने के उपरान्त घटना के समस्त पहलुओं की गहनता से जाँच करने के फलस्वरूप अंकित चौहान की हत्या सोची समझी प्लांनिग थी इसके आधार पर दिनांक 18.07.2023 अभियोग में सम्मिलित अभियुक्त रमेश नाथ सपेरा को गिरफ्तार किया गया है शेष अभियुक्त तब से लगातार फरार चल रहे थे।

फरार व्यक्तियों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस कार्यवाही
श्री पंकज भटट, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल महोदय के पर्यवेक्षण तथा श्री हरंबन्स सिंह एस.पी. सिटी हल्द्वानी, श्री भूपेन्द्र सिंह धौनी सी.ओ. सिटी हल्द्वानी के पर्यवेक्षण में अभियुक्त रमेश की गिरफ्तारी करने के पश्चात हत्या के मुख्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी करने हेतु पुलिस टीमों को गठन किया गया जिनके द्वारा दिल्ली, हरियाणा, नेपाल, बिहार व उत्तराखण्ड के अन्य जिलों में पुलिस टीमों को रवाना किया गया साथ ही एस0ओ0जी नैनीताल व सर्विलॉस सेल टीम को फरार आरोपियों के नम्बरों की मॉनिटरिंग करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। दिनांक 17 जुलाई, 2023 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल महोदय द्वारा हत्या के 04 आरोपियों माही उर्फ डॉली, दीपू काण्डपाल, राम अवतार, ऊषा देवी पर 25,000/- हजार रूपये व श्री नीलेश आनन्द भरणे पुलिस महानिरीक्षक कुमाऊं परिक्षेत्र महोदय द्वारा 50,000/- हजार रूपये के नगद ईनाम घोषणा की गयी ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां विजिलेंस की बड़ी कार्रवाई, सब इंस्पेस्टर और हेड कॉन्स्टेबल रिश्वत लेते गिरफ्तार

आरोपियो की गिरफ्तारी के उपरान्त की गयी प्रारम्भिक जाँच का विवरण-
दिनांक 23.07.2023 को पुलिस टीमों के ताबड़तोड़ दबिश व कार्याही से दबाब में आये हत्या काण्ड के मुख्य अभियुक्ता को उसके प्रेमी सहित वकील से सम्पर्क करने की कोशिश के दौरान पुलिस टीम को मिली लीड अभियुक्ता माही उर्फ डॉली व दीपू काण्डपाल को पुलिस ने ए0एन0 झां इण्टर कॉलेज के समीप रूद्रपुर से गिरफ्तार किया गया तथा प्रारम्भिक पूछताछ में अभियुक्तगणो द्वारा अपने जुर्म का इकबाल किया ।

माही उर्फ डॉली जो प्रेमपुर लोस्ज्ञानी अपने परिवार के साथ रहती थी वर्ष 2008 में बचपन के प्रेमी द्वारा धोखे दिये जाने से आहत होकर घर छोड़कर अलग रहने लगी इस दौरान उसके हल्द्वानी के पूर्व में गलत धन्धा करने वाली महिलाओं के सम्पर्क में आ गयी जिनके साथ उसने काम करना शुरू कर दिया इस दौरान 2016 में दीप काण्डपाल निवासी मोटाहल्दू से उसकी मुलाकात हुई तब से दीप काण्डपाल उसका दोस्त बन गया और उसके घरेलू आदि कामों में मदद करने लगा इस दौराने माही और दीप काण्डपाल के शारीरिक संबंध भी बन गये तथा वर्ष 2017 में माही द्वारा अर्जुनपुर में प्लॉट खरीदकर अपना मकान बनाया गया । वर्ष 2020 में हल्द्वानी के किसी जानने वाले की मदद से उसकी मुलाकात गाड़ी खरीदने को लेकर अंकित से हुई इस बीच अंकित व माही की दोस्ती हो गयी अंकित माही के घर आने जाने लगा और वह हर शनिवार माही के घर में ही रहता था और ये दोनो आपस में पार्टी करते थे और दोनो साथ में शराब भी पीते थे ।

अंकित से दोस्ती होने के उपरान्त कुछ समय बाद अंकित माही को लेकर ज्यादा पजेसिव होने लगा और वह छोटी छोटी बात पर माही को टोकने लगा और माही के अन्य लोगो से बात करने व बाहर जाने पर रोक-टोक लगाने लगा जिस कारण माही अपने अन्य ग्राहकों के पास नहीं जा पा रही थी और उसके आय के स्त्रोत बन्द होने लगे इस बात को लेकर अंकित आये दिन माही के साथ शराब पीकर गाली-गलौच और मार पीट करने लगा दोनों के बीच कई बार झगड़े हुए एवं कई बार अंकित द्वारा उसके घर में तोड़फोड़ भी की गयी तथा अंकित की एक अन्य लड़की से दोस्ती की बात को लेकर भी माही उससे नाराज रहने लगी और अंकित के व्यवहार से उसे पता चल गया था कि वह उससे शादी नहीं करेगा वह सिर्फ उसका उपयोग कर रहा है जिस कारण धीरे-धीरे माही के अन्दर अंकित के प्रति द्वेश भवाना पनपने लगी तथा अंकित के व्यवहार को लेकर दीप काण्डपाल भी आपत्ति करने लगा था क्योकि दीप काण्डपाल ज्यादातर माही के घर में ही रहता था और उसके संबंध माही से स्वच्छन्द नहीं बन पा रहे थे जिस कारण उसने भी अंकित को रास्ते से हटाने के लिए माही से कहा ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां विजिलेंस की बड़ी कार्रवाई, सब इंस्पेस्टर और हेड कॉन्स्टेबल रिश्वत लेते गिरफ्तार

इस दौरान माही अपने पारिवारिक समस्याओं के चलते पूजा पाठ आदि विधि विधानों विश्वास करने लगी और अपने परिचित के माध्यम से रमेश नाथ सपेरा जो सपेरे का काम भी करता था से उसकी मुलाकात हुई वर्ष 2022 में माही ने सपेरा के माध्यम से अपने घर में कालसर्प दोष की पूजा करी और सपेरा पूजा के लिए जंगल से साँप पकड़कर लाया था और पूजा का विधान पूरा कर साँप को जंगल में छोड़ दिया था फिर माही ने सपेरा रमेश नाथ से 6 महीने पहले दीक्षा ग्रहण की तब से सपेरा का उसके घर आना जाना शुरू हो गया और माही ने के सपेरा से भी शारीरिक संबंध बन गये । एक साल पहले आर्दश नर्सरी के पास रहने वाली उषा देवी को माही ने अपने घर पर काम करने के लिए रखा था जिस कारण उषा देवी व उसके पति रामअवतार का भी माही के घर आना जाना शुरू हो गया । अंकित द्वारा मारपीट किये जाने के कारण कभी कभी माही रामअवतार की झोपड़ी में चली जाती थी और वही रूकती थी और कभी कभी खाना खाने भी जाती थी। माही की दीपू काण्डपाल, रमेश नाथ सपेरा, राम अवतार व उसकी पत्नी उषा देवी से गहरी घनिष्ठता हो गयी और ये लोग ही अंकित की हरकतों की वजह से उसको कई बार समझा चुके थे परन्तु अंकित का बदस्तूर आना जाना रहा ।

दिनांक 24.06.2023 माही दीपू काण्डपाल के साथ अपनी स्कूटी से अंकित के घर के पास पहुँच गयी और उसके परिजनों से उसकी शिकायत करने की बात कहने लगी इस दौरान अंकित उन दोनो को लेकर माही के घर पर आ गया जहाँ उन लोगों के बीच बाते हुई परन्तु कुछ दिन बाद अंकित फिर से माही के घर में घुसकर गाली-गलौच मारपीट करने लगा इस बीच माही व दीपू काण्डपाल ने अंकित को रास्ते से हटाने की सहमति बनायी । उस दौराने सपेरा रमेश नाथ व रामअवतार व उसकी बीबी उषा भी घर पर थी सपेरे ने उनको सुझाव दिया कि अंकित को साँप से कटवा दो जिससे कोई जिससे कोई शक नहीं करेगा । चूंकि घटना में सम्मिलित सभी अभियुक्तो का किसी न किसी प्रकार स्वार्थ सिद्ध हो रहा था जिस कारण सभी योजना में शामिल हो गये इस पर माही ने सपेरे से साँप की व्यवस्था करने को कहा और इन सब लोगों ने अंकित को रास्ते से हटाने की बात सोच ली । दिनांक 06.07.2023 को रमेश नाथ को पंचायतघर के पास एक ब्यूटी पार्लर की दुकान में एक साँप घुसने की बात पता चली और उसने मौके पर जाकर कोबरा प्रजाति के साँप को पकड़ कर अपने पास रख लिया और साँप वाली बात माही लोगों को भी बता दी फिर माही और उसके साथियों ने दिनांक 08.07.2023 को अंकित के बर्थडे वाले दिन उसके रास्ते से हटाने का प्लान बनाया परन्तु प्लान के तहत काम न हो पाने के कारण उस दिन वे लोग कुछ नहीं कर पाये ।

माही, दीपू काण्डपाल ने रमेश नाथ सपेरा, राम अवतार व उसकी पत्नी उषा देवी के साथ मिलकर योजना बनायी कि अंकित को घर बुलाकर साँप से कटवाने के बाद उसी की गाड़ी में डालकर कही ठिकाने लगा देगे। योजना के तहत दिनांक 14.07.2023 को माही ने अंकित को कही चलकर पार्टी करने और बीयर पिलाने के लिये कहा तो अंकित राजी हो गया फिर माही ने सभी लोगों को अपने घर पर बुलाया , सपेरा भी साँप लेकर माही के घर पर आ गया योजना के तहत रमेश नाथ सपेरा, राम अवतार व उसकी पत्नी उषा देवी घर के मन्दिर वाले कमरें मे छुप गये शाम के 06.00 बजे के लगभग अंकित घर पर पहुँचा उस दौरान बारिश हो रही थी उसके पीछे पीछे दीपू काण्डपाल भी माही की स्कूटी से आ गया अंकित माही के बेड पर बैठा था माही ने उसे पानी में नीद की गोलियाँ मिलाकर पिला दी इसी बीच दीपू काण्डपाल ने अपने आप को सुखाने के लिये जो कम्बल पकड़ रखी थी उसकी आड़ में इन सब ने अंकित के ऊपर कम्बल डाल दिया और उसकी पूरी तरह से दबा दिया जब अंकित के ऊपर नीद की गोली का असर होने लगा और वो काबू में आ गया तो माही ने सपेरा से साँप लाने के लिये कहा वह साँप लाया माही ने अंकित की जीन्स ऊपर की और साँप से कटवाया, थोड़ी देर में इन्होने जल्दी बाजी में पैर में देखा तो जिस पैर में साँप से कटवाया था उस पैर की बजाय दूसरे पैर को देखा तो वहाँ साँप के काटने का निशान नहीं दिख रहा था जिस कारण दुबारा दूसरे पैर पर साँप से कटवाया थोड़ी देर में अंकित ठण्डा पड़ गया । जिस पर दीपू मोटू ने कहा की बॉडी को कुर्सी में बैठा दो जिससे गाड़ी में डालने में आसानी हो बॉडी अकड़ सकती है इस बीच माही ने दिल्ली जाने के लिए टैक्सी बुक कर ली और टैक्सी चालक दिल्ली निवासी को अपनी लोकेशन भेजी इसके बाद इन लोगों ने अंकित की बॉडी को उसकी गाड़ी की पीछली सीट में बैठाया और गाडी से दीपू काण्डपाल व रामअवतार निकले सपेरा माही को उसकी स्कूटी में बैठाकर राम अवतार की झोपड़ी में छोड़ने गया इसके बाद वो भी स्कूटी से अंकित की गाड़ी के पीछे पीछे भुजियाघाट की और चला वहां पहुँच कर उनका प्लान बदल गया इन्होंने अंकित की गाड़ी को तीनपानी गोला बाईपास रोड पर गाड़ी को स्टार्ट कर एसी ऑन कर छोड़कर चले गये फिर राम अवतार के घर के पास से ही टैक्सी से दिल्ली को निकल गये गाजियाबाद पहुँच कर ये सभी लोग वापस बरेली आये फिर माही और दीपू काण्डपाल, राम अवतार के पीलीभीत स्थित गाँव चले गये और सपेरा बहेडी अपने घर चला गया अगले दिन माही और दीपू काण्डपाल वापस दिल्ली गये और माही ने अपनी बहन के घर अपनी दोनों पालतू बिल्लीयां छोड दी, माही और दीपू अपने किसी परिचित के माध्यम से कोर्ट में सरेण्डर करने के लिये वकील से मिलने आ रहे थे जिन्हे पुलिस द्वारा ने ए0एन0 झां इण्टर कॉलेज के समीप रूद्रपुर से गिरफ्तार किया गया ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां विजिलेंस की बड़ी कार्रवाई, सब इंस्पेस्टर और हेड कॉन्स्टेबल रिश्वत लेते गिरफ्तार

गिरफ्तार अभियुक्त –
1- माही उर्फ डौली आर्या पुत्री स्व0 श्री इन्द्रलाल निवासी शान्तिविहार कालौनी डिवेर के पीछे गौरापड़ाव हल्द्वानी नैनीताल।
2- दीप काण्डपाल पुत्र निवासी हल्दूचौड़ थाना लालकुँआ जनपद नैनीताल

पुलिस टीम
श्री हरेन्द्र चौधरी प्रभारी निरीक्षक कोतवाली हल्द्वानी
व0उ0नि0 विजय मेहता कोतवाली हल्द्वानी
व0उ0नि0 महेन्द्र प्रसाद कोतवाली हल्द्वानी
उ0नि0 जगदीप नेगी चौकी प्रभारी मंगलपडाव
उ0नि0 कुमकुम धानिक कोतवाली हल्द्वानी
उ0नि0 गुलाब सिहं कम्बोज – चौकी मण्डी प्रभारी
हे0का0 इसरार नबी – सीसीटीवी कैमरा अवलोकन सैल
कानि0 घनश्याम रौतेला कोतवाली हल्द्वानी
कानि0 चन्दन नेगी – थाना मुखानी
कानि0 अरुण राठौर चौकी मण्डी
कानि0 वंशीधर जोशी कोतवाली हल्द्वानी
म0कानि0 छाया कोतवाली हल्द्वानी

एसओजी टीम –
श्री राजवीर सिंह नेगी – प्रभारी एसओजी नैनीताल
हे0कानि0 कुन्दन कठायत
हे0कानि0 त्रिलोक रौतेला
कानि0 दिनेश नगरकोटी
कानि0 अनिल गिरी (सर्विलांस सैल)
कानि0 भानुप्रताप
कानि0 अशोक रावत