हल्दूचौड़ के कफल्टिया दंपति ने जहर खुरानी के शिकार व्यक्ति की मदद कर पेश की मानवता की मिसाल,….सकुशल भेजा वापस

ख़बर शेयर करें 👉

लालकुआं। हल्दूचौड़ निवासी दि संडे पोस्ट समाचार पत्र के वरिष्ठ पत्रकार भोला दत्त कफल्टिया तथा उनकी धर्मपत्नी समाज सेविका श्रीमती रमा कफल्टिया ने मानवता की शानदार मिसाल पेश की है। उन्होंने मानवता का धर्म निभाते हुए ज़हर खुरानी के शिकार अचेत अवस्था में लावारिस पड़े नेपाली मूल के व्यक्ति की प्राण रक्षा कर इंसानियत का उच्च संदेश दिया है।

घटनाक्रम के अनुसार महेंद्र नगर नेपाल का रहने वाला दया दत्त जोशी पिछले कई वर्षों से अल्मोड़ा के दीना पानी में जीना होटल में मजदूरी करता है। दो दिन पूर्व वह अपने वेतन के 18000 रुपए एवं बच्चों के लिए कपड़े लेकर दीना पानी से अपने घर जाने के लिए हल्द्वानी की बस में सवार हुआ गरमपानी में उसके अगल-बगल में दो व्यक्ति और बैठ गए और बातों-बातों में उन्हें अपने चंगुल में ले लिया दया दत्त को फिर पता नहीं चला कि वह कहां और किधर है। जहर खुरान के सदस्यों ने उसके सारे रुपए कपड़े इत्यादि सब कुछ हड़प लिए उसे गुमटी के पास अचेत अवस्था में जब लोगों ने देखा तो उसकी सूचना स्थानीय पुलिस को भी दी गई पुलिस वहां पहुंची लेकिन यह अंदाजा लगाकर कि वह नशे में चूर है उसे वहीं छोड़कर चली गई पुलिस ने कोई ज्यादा जानकारी जुटाना भी उचित नहीं समझा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां बुजुर्ग महिला की दिनदहाड़े हुए हत्या का पुलिस ने 48 घंटों में खोला रहस्य

देर शाम जब इसकी जानकारी समाज सेविका श्रीमती रमा कफल्टिया को मिली तो उन्होंने अपने पति को बताया पत्रकार भोला दत्त कफल्टिया तथा उनकी पत्नी जब वहां पर गये तो देखा कि वह व्यक्ति अचेत अवस्था में ठंड से ठिठुर रहा है तो उन्होंने अपने घर से ले जाकर कंबल रजाई इत्यादि उसे उड़ानें को दिए सवेरे जब कफल्टिया दंपति चाय लेकर उसके पास गए तो वह अचेत अवस्था से वापस अपनी होश में आ चुका था। उसके शरीर पर पूरी तरह से मिट्टी लिपटी हुई थी कफल्टिया दंपति उसे घर ले आए उसको नहलाया उसको दूसरे कपड़े पहनने को दिए उसे चाय नाश्ता भोजन दिया और फिर नेपाली व्यक्ति ने अपनी पूरी आप बीती बताई जिसका उल्लेख इस खबर में किया जा चुका है।
वहीं, अन्य लोग भी इकट्ठा हुए और चंदा कर उसे वापस अल्मोड़ा जाने का टिकट देकर रवाना किया क्योंकि नेपाली व्यक्ति द्वारा बताया गया कि उसके पास पैसे नहीं है तो वह घर जाकर क्या करेगा लिहाजा अल्मोड़ा जाकर कुछ दिन मजदूरी करने के बाद फिर वह घर चला जाएगा जाते-जाते वह कफल्टिया दंपति के प्रति आभार व्यक्त कर गया, इधर कफल्टिया दंपति की क्षेत्र में सर्वत्र प्रशंसा की जा रही है।