लालकुआं: यहां RTO विभाग ने फर्जी प्रदूषण सर्टिफिकेट बनाने वाला गिरोह का किया भंडाफोड़

ख़बर शेयर करें 👉

लालकुआं। आज आरटीओ प्रशासन द्वारा बड़ी कार्यवाही करते हुए लालकुआं में फर्जी तरीके से वाहनों का प्रदूषण सर्टिफिकेट बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया गया है, इसके बाद उक्त प्रदूषण केंद्र को रद्द करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी विमल पांडे को लंबे समय से सूचना मिल रही थी कि लालकुआं क्षेत्र में वाहनों के प्रदूषण प्रमाण पत्र गलत तरीके से बनाए जा रहे हैं, उन्होंने शादी वर्दी में परिवहन विभाग के एक कर्मचारी को ट्रांसपोर्ट नगर लालकुआं स्थित रॉयल रेडियम नामक दुकान में भेजा, उक्त कर्मचारी ने वाहन का फोटो दुकान संचालक युसूफ खान को दिखाते हुए वाहन का प्रदूषण प्रमाण पत्र बनाने को कहा, इसके बाद उक्त दुकान संचालक ने व्हाट्सएप के द्वारा उक्त गाड़ी की फोटो लालकुआं नगर स्थित एक प्रदूषण जांच केंद्र में भेजी, जहां से व्हाट्सएप पर ही प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र बनकर आ गया, जिस पर दुकानदार ने अपनी मोहर लगाकर उक्त प्रमाण पत्र परिवहन विभाग के कर्मचारियों को सौंप दिया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: तीर्थयात्रा से लौट रहे लोगों के वाहन की ट्रक से भिड़ंत, 11 घायल, एक गंभीर घायल

इसी दौरान मौके पर पहुंचे सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी विमल पांडे ने दुकान संचालक को मौके पर ही दबोच लिया, साथ ही मौके पर कोतवाली लालकुआं के वरिष्ठ उप निरीक्षक हरेंद्र नेगी को भी बुला लिया, इसके बाद उक्त दुकान संचालक को कोतवाली लाया गया, तथा विस्तृत पूछताछ के दौरान कार्रवाई रिपोर्ट तैयार की गई।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand : एक जुलाई से लागू होने वाले तीन नए आपराधिक आपराधिक कानूनो के लिए तैयारी पूरी – सीएस राधा रतूड़ी


सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी विमल पांडे ने बताया कि लालकुआं स्थित सचिन अग्रवाल के प्रदूषण जांच केंद्र से नगर के कई दुकानदारों को दलाल बनाते हुए उक्त प्रदूषण प्रमाण पत्र फर्जी तरीके से बनाए जा रहे थे, वर्तमान में गौला नदी में खनन कार्य शुरू होने की प्रक्रिया गतिमान है, ऐसे में उक्त प्रदूषण जांच केंद्र के संचालक द्वारा फर्जी तरीके से प्रमाण पत्र बनाए जाने की शिकायतें लंबे समय से मिल रही थी, जिस पर आज उन्होंने यह छापेमारी की है, उन्होंने बताया कि उक्त जांच केंद्र को रद्द करते हुए केंद्र के संचालक के खिलाफ कार्रवाई के लिए आला अधिकारियों को पत्र भेज दिया गया है, साथ ही केंद्र संचालक को नोटिस भेजा जा रहा है।