उत्तराखंड: ‘मुख्यमंत्री नमक पोषण योजना’ का सीएम धामी ने किया शुभारंभ, इन्हें मिलेगा लाभ

ख़बर शेयर करें 👉

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नमक पोषण योजना का शुभारंभ किया. कार्यक्रम में खाद्य मंत्री रेखा आर्या के साथ विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे। प्रदेश के 14 लाख अंत्योदय और बीपीएल परिवारों को इस योजना का लाभ मिलेगा. 8 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान में आयोडीन युक्त नमक हर माह एक किलो मिलेगा।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यह नमक आवश्यक पोषक तत्व है, जो बच्चों और गर्भवती माताओं के लिए विशेष रूप से आवश्यक है. इस योजना के लागू होने से महिलाओं और बच्चों के पोषण में सुधार आएगा. सीएम पुष्कर सिंह धामी के कहा कि गरीबों के कल्याण के लिए राज्य सरकार संकल्पबद्ध है. इसी क्रम में सरकार ने मुख्यमंत्री नमक पोषण योजना की शुरुआत की है. डबल इंजन सरकार प्रदेश के हर गरीब, पिछले और अंतिम छोर में रहने वाले लोगों के जीवन को बेहतर और सहायता देने के लिए काम कर रही है. लोगों को गरीबी और महंगाई से राहत देने के लिए इस योजना का शुभारंभ किया गया, जिसका लाभ अंत्योदय और प्राथमिक परिवार योजना के सभी राशन कार्ड धारकों को मिलेगा।

यह भी पढ़ें 👉  आज का राशिफल: जानिए, क्या कहते हैं आज आपके भाग्य के सितारे,….पढ़ें आज का दैनिक राशिफल

उन्होंने आगे कहा, “बाजारों में करीब 30 रुपए प्रति किलो नमक मिलता है, लेकिन बरसात के दिनों में जब सड़कें बंद हो जाती हैं, तो खाद्य आपूर्ति भी बंद हो जाती है. इससे कीमत बहुत ज्यादा हो जाती है. ऐसे समय पर इस योजना का आना, गरीब परिवारों की सहायता करेगा.”

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां हाइवे खोलने में जुटे मजदूरों पर अचानक भरभराकर गिरे बोल्डर, भागकर कर जान बचाई

इस दौरान प्रदेश की खाद्य मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गरीबों को मुफ्त राशन मुहैया कराने की योजना पूरे देश में खाद्य विभाग गरीब राशनकार्ड धारकों के लिए संजीवनी का काम करती है. उनकी जो मूलभूत आवश्यकताएं, जिनमे गेहूं, चावल, शामिल हैं, उन्हें उपलब्ध कराया जा रहा है. इसी क्रम में अब विभाग फोर्टिफाइड चावल की ही तरह आयोडीन युक्त नमक देने जा रहा है. यह नमक अंत्योदय और प्राथमिक परिवारों को बेहद ही रियायती दरों पर प्रतिमाह एक किलो दिया जाएगा. आयोडीन युक्त यह नमक हमारे गरीब परिवारों को कुपोषण से लड़ने में सहायक सिद्ध होगा।