लालकुआं: रेलवे व जिला प्रशासन ने लालकुआं में ध्वस्त किया अतिक्रमण….

ख़बर शेयर करें 👉

लालकुआं। रेलवे विभाग द्वारा रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार के समीप बनी दुकानों को हटाए जाने के नोटिस के बाद आज अतिक्रमण हटाने आयी रेलवे विभाग एवं स्थानीय प्रशासन की टीम ने व्यापारियों के भारी विरोध के बाद कुछ दुकानों को जेसीबी की मदद से ध्वस्त कर दिया परंतु जैसे ही पक्के निर्माण को ध्वस्त करने के लिए टीम आगे बढ़ने लगी तो व्यापारियों की रेलवे व जिला प्रशासन की टीम से अतिक्रमण हटाने को लेकर तीखी बहस एवं नोक झोंक शुरू हो गयी। जिसके बाद टीम ने मजदूरों की मदद से अतिक्रमण की जद में आए हिस्से को मजदूरों की मदद से तोड़ दिया। इस दौरान भारी संख्या में रेलवे सुरक्षा बल एवं स्थानीय पुलिस के जवान मौजूद रहे।


मंगलवार को मजिस्ट्रेट मनीषा बिष्ट के नेतृत्व में रेलवे व जिलाप्रशासन की टीम अतिक्रमण हटाने के लिए लालकुआं स्टेशन गेट पर पहुंची, जिसकी भनक लगते ही शहर के व्यापारी और तमाम जनप्रतिनिधि भी मौके पर पहुंच गए। जिन्होंने रेलवे और पुलिस प्रशासन के अतिक्रमण हटाओ अभियान का विरोध शुरू कर दिया। जिसके बाद निर्णय लिया गया कि जिला जज के न्यायालय में आज सुनवाई के दौरान जो निर्णय होगा उसके हिसाब से कार्रवाई की जाएगी। परंतु निर्णय आने में अत्यधिक विलंब हो जाने के बाद प्रशासनिक टीम ने अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू की।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआं: यहां वन विकास निगम में करोड़ों का घोटाला, दो कर्मचारी निलंबित


जेसीबी से सबसे पहले धर्म कांटा हटाया गया। इसके बाद जैसे ही दोनों भवनों के आधे हिस्से को गिराने की कार्रवाई शुरू हुई तो व्यापारियों ने पुनः विरोध कर दिया। व्यापारियों का कहना था कि जेसीबी के बजाए हाथ से भवन को तोड़ा जाए, क्योंकि इससे पूरा भवन क्षतिग्रस्त हो सकता है। इसके बाद रेलवे ने अपने कर्मचारियों से मैन्युअल तोड़ने की कार्रवाई शुरू की तो पुनः व्यापारी मैदान में आ गए। उनका कहना था कि व्यापारी स्वयं मजदूर बुलाकर तोड़ने की कार्रवाई करेंगे। जिसके बाद व्यापारियों द्वारा रेलवे की भूमि में आ रहे भवनों के आधे हिस्से को तोड़ने की कार्यवाही शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand : एक जुलाई से लागू होने वाले तीन नए आपराधिक आपराधिक कानूनो के लिए तैयारी पूरी – सीएस राधा रतूड़ी


इस अवसर पर पुलिस क्षेत्राधिकारी संगीता, कोतवाल डीआर वर्मा, रजिस्ट्रार कानूनगो मोहित बोरा के साथ ही रेलवे व भारी पुलिस बल तैनात था। अभियान के लिए हल्द्वानी से अतिरिक्त पुलिस बल भी बुलाया गया था।

इससे पूर्व मंगलवार प्रातः अतिक्रमण तोड़ने के लिए पुलिस प्रशासन ने कोतवाली एवं रेल विभाग की रेलवे स्टेशन प्रांगण में कर्मचारी एवं अधिकारियों से ब्रीफिंग की, इस दौरान अधिकारियों ने पुलिस व रेलवे पुलिस को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। वही रेलवे द्वारा अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान व्यापारियों द्वारा किया गया विरोध प्रदर्शन काम नहीं आ सका तब व्यापारियों ने जबरदस्त हंगामा खड़ा कर दिया। रेलवे प्रशासन मुर्दाबाद समेत वापस जाओ के नारे लगाए गए। व्यापार मंडल एवं नगर के व्यापारियों ने कार्रवाई का खुलकर भारी विरोध किया।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआं: यहां दो बच्चों के बाप ने आठवीं में पढ़ने वाली छात्रा को जंगल में ले जाकर किया दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज

विदित रहे कि रेल प्रशासन ने लालकुआं रेलवे स्टेशन के समीप स्थित बिंद्रा धर्म कांटे व दो अन्य व्यवसायिक भवनों से 7:45 फिट अतिक्रमण ध्वस्त करने का न्यायालय से आदेश प्राप्त किया है। इसके खिलाफ व्यवसाईयों ने जिला जज नैनीताल के न्यायालय में वाद दायर किया है। जिसमें आज 19 सितंबर की तिथि नियत थी। लेकिन रेलवे के किसी भी अधिकारी के नहीं पहुंचने के कारण दोपहर बाद तक कोई निर्णय नहीं आ सका। जिसके बाद रेलवे ने अतिक्रमण हटाओ अभियान शुरू कर दिया।